Wednesday, 25 December 2019

December Visit 2019 VisitbOf auttapredsh By Peeyush Pandit

Peeyush Pandit December's Visit, Uttar Pradesh – 2019
Agenda : 

1 Women Empowerment, 
2 Swarna Bharat Kambal Vitran Yojna
3 Youth Development Programe 

Places : Lucknow, Mirzapur, Allahbad, Pratapgarh, Chitrakoot, Ayodhya, Kausambhi, Gonda, Raibrally , Varanasi And Many More...

Peeyush Pandit, Chairman , Swarna Bharat Parivaar, started December visit to different districts of Uttar Pradesh along with the team and this visit is dedicated to the above mentioned Agendas.

Women's Development For The Inspiring Women Of India 
Peeyush Pandit believes Gender equality is, first and foremost, a human right. A woman is entitled to live in dignity and in freedom from want and from fear. Empowering women is also an indispensable tool for advancing development and reducing poverty. Empowered women contribute to the health and productivity of whole families and communities and to improved prospects for the next generation. Yet discrimination against women and girls - including gender-based violence, economic discrimination, reproductive health inequities, and harmful traditional practices - remains the most pervasive and persistent form of inequality. Women and girls bear enormous hardship during and after humanitarian emergencies, especially armed conflicts. And to minimize this Swarna Bharat Parivaar is dedicated to empower women by supporting them in various ways. 

2. Inception of the idea behind this cause.Kambal Vitran Yojna 

Your personal experiences are ironic and leaves a remarkable scar on 
you. I still remember the tear-jerking moment when i was at Chitrakoot. I 
went there with my family to worship.
Chitrakoot is a small town, which is situated in the north Vindhyan 
range. Legends have it that Chitrakoot was the place where Lord 
Rama, his wife Sita and his brother Lakshmana stayed for eleven and 
half of their fourteen years of exile. Chitrakoot is located over the 
districts of Chitrakoot in Uttar Pradesh and Satna in Madhya Pradesh.
It was mid December of 2015, Temperature over there went down to 
seven degrees. Everyone in the precincts of temple was shivering due 
to cold. As I was about to enter the temple, I saw few beggars with 
bowls in their hands, singing religious songs in a pathetic voice, that 
evokes the pity for them. One of them was disabled. But, that didn’t 
shock me. What grabbed my attention was that they were all dressed 
in torn clothes. All of them shivering, the freezing cold could be felt
from their shivering voice and teeth chattering due to cold while 
asking for alms, money, food and clothes.
I was all shattered seeing their poor condition. I immediately took off 
the shawl that I was wearing and offered it to the crippled beggar and 
then spent around ten thousand rupees from the SWARNA BHARAT
PARIVAAR’s fund to buy warm clothes and blankets for all the 
beggars and homeless people of chitrakoot.
This hit me with the fact that if there are hundreds of homeless in this 
small town then there must be thousands of such in the whole district 
and lakhs in the state and around nation.

3 National Youth Development Programe 

Opening of Skill Development Centers in different districts.
• Giving employment to them depending on their skills.
• Personality Development classes to bring back their own lost confidence and self representation.
• To help women to make their own identity.
• The power of Internet - utilization of internet has open the roads of knowledge and awareness related to the various field, it increased the social interactions between the far way people and influences the women.
Benefits of Women Empowerment
It leads to increase the confidence of women in various fields and decrease their dependency on others with respect to financial requirements as well as decision-making ability.
• increase their ability to make the contribution for well being of society.
• they will able to gain respectful position in the society.
• their participation will help in the growth of the GDP of the country.
Other aspect on which Peeyush Pandit focused is the younger generation of our Country and how their energies and talent can be best channelized for the betterment of the society. The need to create value in the lives of our Youths has given rise to various calls for inculcating entrepreneurship skills amongst them. Our Youths presently live in an environment predominant with the influences of parents, schools, peer groups, government policies, social values and the wave of internet related issues. All these work to shape the thinking and direction of our youths positively or negatively. In the positive sense, the mind and thought of these youths become properly and positively directed to face the issues of life, while the reverse becomes the opposite. Swarna Bharat Parivaar have taken small effort to encourage youth for self betterment.
• Various Skill development Centers to be opened.
• Mentorship & Focus
• Vocational Training Centers
• Motivational & Entrepreneurial Classes
• Employment Opportunities
Youth are not only the leaders of tomorrow, but also the partners of today. Young people are social actors of change and progress. They are a crucial segment of a nation’s development. Their contribution, therefore, is highly needed.
We hope you all will all support us and volunteer with us.

Chief Operating Officer 
Public Relation & Media 
Swarna Bharat Parivaar
Mob:+91-7291813661
Web: www.swarnabharatparivaar.org
E-mail : swarnabharatparivaarps@gmail.com

Thursday, 19 December 2019

स्वर्ण भारत परिवार कम्बल वितरण योजना लखनऊ

आप सभी को हार्दिक धन्यवाद अपने अपने क्षेत्र में आप भी स्वर्ण भारत परिवार कम्बल वितरण योजना से जुड़े और गरीबों तक सेवा पहुँचाने का कष्ट करें ।

आगामी योजना
लखनऊ के बाद 

रायबरेली प्रतापगढ़ कौशाम्बी प्रयागराज गोंडा बस्ती गोरखपुर सहित अन्य जिलों में भी जल्दी ही योजना का सुभारम्भ होगा ।

Wednesday, 18 December 2019

स्वर्ण भारत कम्बल वितरण योजना लखनऊ

स्वर्ण भारत कम्बल वितरण योजना की शुरूवात लखनऊ से शुरू हो गई है जो देश भर में चलाई जा रही है । आप सभी सहयोग करें व कार्यक्रम को सफल बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाएं स्वर्ण भारत परिवार ठंड में ठिठुरते हुए लोगो की सेवा में तत्तपर है । आपके सहयोग से हम हर वंचित व्यक्ति तक पहुँच सकतें हैं । 

सहयोग व जुड़ने हेतु व्हाट्सएप्प करें । 7291813661

विक्लांगता शरीर से नही मन से कमजोर बनाती हैै: पीयूष पंडित।

विक्लांगता शरीर से नही मन से कमजोर बनाती हैै: पीयूष पंडित।

नई दिल्ली(ब्यूरो):- स्वर्ण भारत परिवार संगठन और दिल्ली सरकार के सौजन्य से आंतरराष्ट्रीय विक्लांगता दिवस पर दिल्ली स्थित सत्यग्रह मंदिर गांधी दर्शन राजपथ में विक्लांगता राज्य संम्मान समारोह का आयोजन किया गया जिसमें दिल्ली सरकार के मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम दिल्ली पुलिस के डीजीपी आदित्य आर्या के द्वारा अलग अलग कार्य मे उपलब्धि हासिल करने वाले होनहारों को यह सम्मान दिया जिन्होंने जिंदगी में अपनी विकलांगता को अपनी कमजोरी ना समझ कर समाज मे एक अलग पहचान बनाई और और अपने बुलंदियों के परचम लहराए है कार्यक्रम की अध्यक्षता संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष ने कहा संगठन द्वारा प्रति वर्ष समाज मे जो लोग अपनी कमी महसूस ना कर इतिहास बनाया है उसे यह सम्मान देकर अपने आप को स्वभाग्यशाली समझता हूं यह सम्मान शिक्षा, खेल,साहित्य,और सामाजिक कार्य करने वाले लोगो के लिए था इसी मौके पर गेस्ट ऑफ ऑनर रिटार्यड कर्नल प्रताप अहुवालिया,अमर भारती के संस्थापक शैलेन्द्र जैन,लाइव 24 न्यूज़ के संपादक प्रमोद ठाकुर और सामाजिक चिंतक राघव भी मौजूद रहे इनके द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया और आए हुए अतिथियो ने मंच के माध्यम से सभी को संबोधित किया।

स्वर्ण भारत परिवार कम्बल वितरण योजना 2019-2020

स्वर्ण भारत परिवार कम्बल वितरण योजना 2019-2020 कार्यावधि : दिसम्बर जनवरी 
कार्य क्षेत्र : दिल्ली उत्तरप्रदेश बिहार झारखंड व अन्य राज्य
प्रोजेक्ट राशि : 20 लाख 

 #स्वर्ण_भारत_परिवार सभी जनपदीय संस्थाओं से आवेदन आमंत्रित करता है । हर संस्था को कम्बल वितरण योजना के कैम्प ब्लॉक स्तरीय लगाने होंगे । कैम्प में लगने वाले सभी खर्च का वहन स्वर्ण भारत परिवार द्वारा उठाया जाएगा ।इसलिए स्वर्ण भारत के सभी पदाधिकारियों और परिवार के सभी लोगों को कोशिश करनी है कि जरूरतमंदों तक हर सुविधा पहुंच सके। यदि आप लोगों को इसमें कुछ परेशानी आ रही हो तो स्वर्ण भारत परिवार के #दिल्ली_कार्यालय में संपर्क करें। यहां पर भी आपको कम्बल और गर्म कपड़ें वितरण के लिए मिल जायेंगें। 
#प्रणाम_स्वर्ण_भारत

Monday, 9 December 2019

समस्त मानवजाति को एक समान अधिकार देना ही सही मायने में मानवाधिकार दिवस है : पीयूष पण्डित

मानवाधिकार दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित स्वर्ण भारत परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पण्डित ने मानवता का संदेश देते हुए युवाओं को मानवाधिकारों के प्रति जागरूक किया जिसमें मुख्य अंश कुछ इसप्रकार रहे हर इंसान को जिंदगी, आजादी, बराबरी और सम्मान का अधिकार ही मानवाधिकार है. भारतीय संविधान इस अधिकार की न सिर्फ गारंटी देता है, बल्कि इसे तोड़ने वाले को अदालत सजा देती है. भारत में 28 सितंबर, 1993 से मानवाधिकार कानून अमल में आया. 12 अक्‍टूबर, 1993 में सरकार ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का गठन किया. वहीं 10 दिसंबर 1948 को 'संयुक्त राष्ट्र असेंबली' ने विश्व मानवाधिकार घोषणा पत्र जारी कर पहली बार अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस की घोषणा की थी. आज विश्व के कई देशो में लोगो पर मनमाने तरह से जुल्म हो रहे है। लोगो को बिना कारण बताये गिरफ्तार कर लिया जाता है, उसको कैद, नजरबंद कर दिया जाता है। किसी धर्म, समूह विशेष को परेशान और सताया जाता है। विश्व मानवाधिकार दिवस का लक्ष्य है कि विश्व में किसी भी व्यक्ति, समाज या वर्ग को परेशान न किया जाये।

सभी को जीवन जीने की आजादी एवं समान अधिकार मिले। इस दिवस का लक्ष्य बच्चो, महिलाओं, विकलांगो, नाबालिग समेत सभी लोगो की सुरक्षा करना है। महिलाओं का बलात्कार, यौन शोषण, उत्पीड़न, बाल शोषण, बाल मजदूरी, बच्चो का यौन उत्पीड़न, जातिगत भेदभाव, व्यक्ति विशेष, अल्पसंख्यक का उत्पीड़न, लूटपाट जैसे समस्याओं को जड़ से खत्म करना है   प्रमुख मानव अधिकार इस प्रकार है-

समानता का अधिकार
विश्वास एवं धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार
*भेदभाव से आजादी का अधिकार*
*सामाजिक सुरक्षा का अधिकार*
*अभिव्यक्ति की आजादी*
*कानूनी सहायता लेने का अधिकार*
*जीवन और आजाद रहने का अधिकार*
*संस्कृतिक गतिविधियों में भाग लेने का अधिकार*
*शिक्षा का अधिकार*
*भोजन का अधिकार*
*काम करने का अधिकार*
*बराबरी एवं सम्मान का अधिकार*
*स्त्री-पुरुष को समान अधिकार है*
*शोषण से रक्षा का अधिकार*      

आज पूरे विश्व को मानव अधिकारों की बहुत जरूरत है। आये दिन कोई न कोई जातती, नाइंसाफी देखने को मिलती है। भारत में भी रोज कोई न कोई ऐसा अपराध देखने को मिलता है जो मानव अधिकारों की धज्जियां उड़ा रहा है।
जेल में, पुलिस हिरासत में महिलाओं के साथ बलात्कार, यौन उत्पीड़न, कैदियों की हत्या, अत्याचार, यातना, जैसी खबरे रोज ही सुनने को मिल रही है। पुलिस निर्दोष लोगो पर जुल्म कर रही है जबकि प्रभावशाली और ताकतवर लोगो को बचाने की कोशिश करती है। ऐसे में मानव अधिकार ही पीढ़ित लोगो की मदद कर सकते हैं। इस कार्यक्रम में कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे, *मानव अधिकार से अनुज वाजपेयी ई विलेज प्रभारी कृष्णकांत यूथ डेवलपमेन्ट प्रोग्राम के प्रवक्ता संदीप शुक्ला राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी विपिन जायसवाल सहारा ग्रुप से मनोज गुप्ता महिला शक्ति से निधि मिश्रा रवि कांत सिंह, कपिल गुप्ता, ताजुद्दीन इदृशी, शबनम सैफी हर्षवर्धन जी प्रवीण थापियाल उमेश कुमार कार्यक्रम का संचालन अनुज शुक्ला अध्यक्ष चयन समिति* द्वारा किया गया जिसमें सैकड़ो युवा व सभी धर्म जाति के लोग मौजूद रहे ।

Sunday, 8 December 2019

स्तन कैंसर महिलाओं में होने वाला बड़ा कैंसर है, पुरुष भी नहीं हैं इससे अछूते : पीयूष पण्डित

स्तन कैंसर महिलाओं में होने वाला बड़ा कैंसर है, पुरुष भी नहीं हैं इससे अछूते : पीयूष पण्डित
              
शशक्त नारी परिषद द्वारा चलाये जा रहे ब्रेस्ट कैंसर अवेरनेस कैम्पेन में सहयोगी के रूप में उतरा स्वर्ण भारत परिवार 
              
*शशक्त नारी परिषद द्वारा चलाये जा रहे ब्रेस्ट कैंसर अवेरनेस कैम्पेन में सहयोगी के रूप में उतरा स्वर्ण भारत परिवार* 

नईं दिल्ली : सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में आयोजित एक कार्यक्रम में स्वर्ण भारत परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पण्डित अपनी टीम के साथ पहुंचे नारी शशक्तिकरण के ऊपर कार्यक्रमो पर चर्चा की शशक्त नारी परिषद की अध्यक्षा द्वारा *पेंट इंडिया पिंक* की शुरुवात की गई जिसके माध्यम से पूरे देश मे स्तन कैंसर से बचने के लिए महिलाओं को जागरूक किया जाएगा *दीपा अंटिल करीब 10 सालों से सामाजिक कार्यों में अपना पूरा समय दे रहीं एक अच्छी व्यवसायी होने के बावजूद ज्यादातर समय महिला शशक्तिकरण पर देतीं हैं* । इस मौके पर उन्होंने ब्रेस्ट कैंसर के बारे में कुछ जानकारी दी, विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार बच्चे नहीं पैदा करना, अधि‍क उम्र में पहला बच्चा होना, स्‍तनपान नहीं कराना, वजन में अत्यधिक वृद्धि और अक्सर शराब का सेवन करना तथा खराब व अनियंत्रित जीवनशैली स्तन कैंसर के प्रमुख कारण हैं। इसके अलावा अनुवांशि‍क रूप से भी स्तन कैंसर की बीमारी होना संभव है।   इसके अलावा महिलाओं को जागरूक रहने के साथ ही नियमित तौर पर स्तन कैंसर की जांच करवाना चाहिए। महिलाएं अपने ब्रेस्‍ट का परीक्षण, मैमोग्राफी से करवा सकती हैं। इसका उपयोग रोग की पहचान करने और उसका पता लगाने के उपकरण के रूप में किया जाता है। मैमोग्राफी का लक्ष्य स्तन कैंसर का शुरूआती दौर में ही पता लगाना है।  
 लक्षण स्तन के आकार में बदलाव महसूस होना , स्तन या बांह के नीचे की ओर टटोलने पर गांठ महसूस होना, स्तन को दबाने पर दर्द होना, कोई तरल या चिपचिपा पदार्थ स्त्रावित होता, निप्पल के अग्रभाग का मुड़ना एवं रंग लाल होना, स्तनों में सूजन आ जाना, स्तन कैंसर के प्रमुख हैं, जिनके महसूस होने पर सतर्क होकर इससे बचने के उपाय करना बेहद आवश्यक है।   नमक का अत्यधिक सेवन न करें 
रेड मीट के अधि‍क सेवन से बचें 
सूर्य के तेज किरणों के प्रभाव से बचें
अधिक मात्रा में धूम्रपान और नशीले पदार्थों का सेवन न करें।
गर्भनिरोधक गोलियों का लगातार सेवन करने से पहले चिकित्सकीय परामर्श लें। इस मौके पर *मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे डॉक्टर दिनेश उपाध्याय मेंबर ऑफ गवर्निंग बॉडी मिनिस्ट्री ऑफ आयुष श्री मार्केंडेय आहूजा वीसी गुरुग्राम यूनिवर्सिटी श्री गुरु जी अरविंद त्रिपाठी जी डॉक्टर राधिका अधोलिया प्रेजिडेंट यूनिवर्ल्ड केअर श्री विजय चौधरी बीजेपी प्रवक्ता सुश्री अर्चना तिवारी प्रेजिडेंट  कनेक्टिंग लाईव एनजीओ  इस मौके पर प्रमुख्य आकर्षण का केंद्र रहीं चीफ पैट्रन श्रीमती इंका वर्मा स्वर्ण भारत परिवार के अध्यक्ष पीयूष पण्डित ने सिरीफोर्ट में आयोजित कार्यकम की सराहना की  व कुशल संचालन व कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बलबीर सिंह नेगी की प्रशंसा की साथ ही जल्द ही स्वर्ण भारत और शशक्त नारी परिषद मिलकर आगे इस मिशन को बढ़ाएंगे इस बात पर जोर दिया इस मौके पर 100 महिलाओं को एसएनपी अचीवर्स अवार्ड से  सम्मानित किया गया* । : सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में आयोजित एक कार्यक्रम में स्वर्ण भारत परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पण्डित अपनी टीम के साथ पहुंचे नारी शशक्तिकरण के ऊपर कार्यक्रमो पर चर्चा की शशक्त नारी परिषद की अध्यक्षा द्वारा पेंट इंडिया पिंक की शुरुवात की गई जिसके माध्यम से पूरे देश मे स्तन कैंसर से बचने के लिए महिलाओं को जागरूक किया जाएगा दीपा अंटिल करीब 10 सालों से सामाजिक कार्यों में अपना पूरा समय दे रहीं एक अच्छी व्यवसायी होने के बावजूद ज्यादातर समय महिला शशक्तिकरण पर देतीं हैं* । इस मौके पर उन्होंने ब्रेस्ट कैंसर के बारे में कुछ जानकारी दी, विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार बच्चे नहीं पैदा करना, अधि‍क उम्र में पहला बच्चा होना, स्‍तनपान नहीं कराना, वजन में अत्यधिक वृद्धि और अक्सर शराब का सेवन करना तथा खराब व अनियंत्रित जीवनशैली स्तन कैंसर के प्रमुख कारण हैं। इसके अलावा अनुवांशि‍क रूप से भी स्तन कैंसर की बीमारी होना संभव है।   इसके अलावा महिलाओं को जागरूक रहने के साथ ही नियमित तौर पर स्तन कैंसर की जांच करवाना चाहिए। महिलाएं अपने ब्रेस्‍ट का परीक्षण, मैमोग्राफी से करवा सकती हैं। इसका उपयोग रोग की पहचान करने और उसका पता लगाने के उपकरण के रूप में किया जाता है। मैमोग्राफी का लक्ष्य स्तन कैंसर का शुरूआती दौर में ही पता लगाना है।  
 लक्षण स्तन के आकार में बदलाव महसूस होना , स्तन या बांह के नीचे की ओर टटोलने पर गांठ महसूस होना, स्तन को दबाने पर दर्द होना, कोई तरल या चिपचिपा पदार्थ स्त्रावित होता, निप्पल के अग्रभाग का मुड़ना एवं रंग लाल होना, स्तनों में सूजन आ जाना, स्तन कैंसर के प्रमुख हैं, जिनके महसूस होने पर सतर्क होकर इससे बचने के उपाय करना बेहद आवश्यक है।   नमक का अत्यधिक सेवन न करें 
रेड मीट के अधि‍क सेवन से बचें 
सूर्य के तेज किरणों के प्रभाव से बचें
अधिक मात्रा में धूम्रपान और नशीले पदार्थों का सेवन न करें।
गर्भनिरोधक गोलियों का लगातार सेवन करने से पहले चिकित्सकीय परामर्श लें। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे डॉक्टर दिनेश उपाध्याय मेंबर ऑफ गवर्निंग बॉडी मिनिस्ट्री ऑफ आयुष श्री मार्केंडेय आहूजा वीसी गुरुग्राम यूनिवर्सिटी श्री गुरु जी अरविंद त्रिपाठी जी डॉक्टर राधिका अधोलिया प्रेजिडेंट यूनिवर्ल्ड केअर श्री विजय चौधरी बीजेपी प्रवक्ता सुश्री अर्चना तिवारी प्रेजिडेंट  कनेक्टिंग लाईव एनजीओ  इस मौके पर प्रमुख्य आकर्षण का केंद्र रहीं चीफ पैट्रन श्रीमती इंका वर्मा स्वर्ण भारत परिवार के अध्यक्ष पीयूष पण्डित ने सिरीफोर्ट में आयोजित कार्यकम की सराहना की  व कुशल संचालन व कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बलबीर सिंह नेगी की प्रशंसा की साथ ही जल्द ही स्वर्ण भारत और शशक्त नारी परिषद मिलकर आगे इस मिशन को बढ़ाएंगे इस बात पर जोर दिया इस मौके पर 100 महिलाओं को एसएनपी अचीवर्स अवार्ड से  सम्मानित किया गया ।